ईश्वर है

ईश्वर परम सत्य है,पर्मार्थ वस्तु है. जो लोग केहते हैं  कि ईश्वर नहीं  है उनका  कहना युक्ति युक्त नहीं  है ; सर्वथा अनुभव  के विरुद्ध  है. आप ही विचार  कीजिये कि  जो  कहता है  कि  ईश्वर नहीं  है  क्या उसने  संसार का एक एक कण छान कर देख लिया ? क्या उसने काल  के एक एक क्षण की गणना करके उनकी सीमा जान ली ? क्या  उसने  देश  के कोण कोण की छान बीन करके जांच पडताल कर ली ? क्या उसने अपनी आत्मा और ह्रुद्य की गतिविधी को जांच  लिया ? यदि कहो  कि नही  तो  वह किस युक्ति के बल  पर कहता है  कि ईश्वर नहीं  है ?उसका कहना सर्वथा ही कपोल  कल्पना है. ईश्वर है  और  उसका साक्षात्कार  होता है.

Advertisements

One comment on “ईश्वर है

  1. avanish says:

    These lines have some internal force in them. Have’nt read something so simple yet so powerful on the ‘existence’ of God.
    Thank you bhai for putting this up on your blog. I keep visiting this often…..

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s