मैं चमारों की गली तक ले चलूँगा आपको..

आज कल बहन मायावती को बीजेपी नेता दयाशंकर सिंह द्वारा वेश्या कहे जाने पर ख़ासा बवाल मचा हुआ है। आप सोचते होंगे बात बुरी लगी होगी इसीलिए सब लोग सड़कों पर उतरे हैं। पर ये सिर्फ आधा सच है। हमारे यूपी को समझने के लिए आपको ये समझना होगा की आखिर पूरा सच क्या है ? दरअसल कम लोगों को याद होगा की ये ठाकुर दयाशंकर सिंह वही हैं जिन्होंने बेईमानी से लखनऊ विश्वविद्यालय का चुनाव जीत लिया था। इसमें इनकी मदद की थी तब के मुख्य मंत्री रहे कल्याण सिंह से जिनका एक परस्त्री के साथ नाजायज़ सम्बन्ध होने के आरोपों से पॉलिटिकल कैरियर ख़त्म हो गया। गुंडई की हालत ये की VC रूपरेखा वर्मा ने स्वेच्छा से पद त्याग दिया था ।
मुझे याद है की लगभग तीस साल पहले मैं अपने ननिहाल गया था। गांव में हम लोग बाहर बरामदे में बैठे थे। गर्मी की दोपहर थी। तभी एकदम से मेरे बराबर में बैठे मेरे ममेरे बड़े भाई ने एक गुम्मा उठाया और भद्दी गाली देते हुए सामने से आ रहे लड़के की साइकिल पर दे मारा। बेचारा लड़का सकपका गया और हमारी तरफ देखने लगा। भाई साहब दहाड़े – अब तू हमरे दरवज्जे पर साइकिल पर सवार होकर चलिबो ?? मुआफ़ी मांगने के अंदाज़ से मैं समझ गया की लड़का किसी नीची जाति का था। इस घटना के बाद मैंने भाई साहब को गांधी जी की सभी लोग बराबर हैं वाली सीख देने की नाकाम कोशिश की तो वे खीज कर बोले – तू कुछौ जानत नाहीं हौ । गांधी बाबा चले गए। ससुर इन सालन का हमरी मूड़ी पर धराय गए। अगले दिन कुछ कारिंदों को बुलवा कर उन्होंने हमारे दरवाजे के दोनों तरफ एक छोटी खंदक खुदवा दी । वो खुश थे की कोई साला अब चाह कर भी बाबू लोगों के सामने से साइकिल पर “सवार” होकर सामने से न जा पायेगा। तब मुझे उनकी इस हरकत पर बहुत हंसी आयी थी । जब मैंने उनसे कहा की अगर कोई आपकी इज़्ज़त कर के खुद साइकिल से उतर जाए तो ठीक पर ये क्या की गड्ढा खोद दिए हो ? वो गंभीर हो गए और बोले – सोनू बेटा तुम अभी नहीं समझोगे। और बात सही थी मैं बाद में ही ये समझ पाया की ये दर्द उस साइकिल सवार से ज़्यादा उनका अपना था जिनकी ज़मींदारी आज़ादी के साथ छिन गयी थी । अचानक वो और उनके जैसे तमाम बाबू लोग एक अनिश्चित और अन्धकारमय भविष्य को देखने पर बाध्य थे जहां ऐशो आराम तो छोड़ो दो जून की रोटी की भी कोई गारंटी नहीं थी ।
यहां अदम गोंडवी, जो की पेशे से किसान थे और ज़्यादा पढ़े लिखे नहीं थे उनकी कविता आपके समक्ष रखना चाहूँगा । शायद आप समझ पाएंगे की आखिर बहन मायावती जी ने ” कुवांरी हूँ, चमारी हूं, तुम्हारी हूँ ” का नारा क्यों बुलंद किया और दयाशंकर का उन्हें वेश्या कहना क्यों महज एक गलत शब्दावली का प्रयोग नहीं उससे कहीं बढ़ कर था। एक कुंठित मानसिकता का परिचायक था जिससे सब ठाकुर और पंडित पुरुष ग्रसित हैं । उनके लिए छोटी जाति की औरत एक खिलौना है और उन्हें किसी तरह स्वीकार्य नहीं है की वो उनको आँखें दिखाए। कविता ज़रा लम्बी है और अंत आते आते आपको उस system उस समाज से घिन आने लगेगी जिसका हम सब हिस्सा हैं। तो लीजिये प्रस्तुत है अदम गोंडवी की रचना । निवेदन है पूरा पढ़ें, ज़रा सी लम्बी है …

आइए महसूस करिए जिंदगी के ताप को
मैं चमारों की गली तक ले चलूँगा आपको
जिस गली में भुखमरी की यातना से ऊब कर
मर गई फुलिया बिचारी इक कुएँ में डूब कर
है सधी सिर पर बिनौली कंडियों की टोकरी
आ रही है सामने से हरखुआ की छोकरी
चल रही है छंद के आयाम को देती दिशा
मैं इसे कहता हूँ सरजू पार की मोनालिसा
कैसी यह भयभीत है हिरनी-सी घबराई हुई
लग रही जैसे कली बेला की कुम्हलाई हुई
कल को यह वाचाल थी पर आज कैसी मौन है
जानते हो इसकी ख़ामोशी का कारण कौन है
थे यही सावन के दिन हरखू गया था हाट को
सो रही बूढ़ी ओसारे में बिछाए खाट को
डूबती सूरज की किरनें खेलती थीं रेत से
घास का गट्ठर लिए वह आ रही थी खेत से
आ रही थी वह चली खोई हुई जज्बात में
क्या पता उसको कि कोई भेड़िया है घात में
होनी से बेख़बर कृष्ना बेख़बर राहों में थी
मोड़ पर घूमी तो देखा अजनबी बाँहों में थी
चीख़ निकली भी तो होठों में ही घुट कर रह गई
छटपटाई पहले, फिर ढीली पड़ी, फिर ढह गई
दिन तो सरजू के कछारों में था कब का ढल गया
वासना की आग में कौमार्य उसका जल गया
और उस दिन ये हवेली हँस रही थी मौज में
होश में आई तो कृष्ना थी पिता की गोद में
जुड़ गई थी भीड़ जिसमें ज़ोर था सैलाब था
जो भी था अपनी सुनाने के लिए बेताब था
बढ़ के मंगल ने कहा, ‘काका, तू कैसे मौन है
पूछ तो बेटी से आख़िर वो दरिंदा कौन है
कोई हो संघर्ष से हम पाँव मोड़ेंगे नहीं
कच्चा खा जाएँगे ज़िंदा उनको छोडेंगे नहीं
कैसे हो सकता है होनी कह के हम टाला करें
और ये दुश्मन बहू-बेटी से मुँह काला करें’
बोला कृष्ना से – ‘बहन, सो जा मेरे अनुरोध से
बच नहीं सकता है वो पापी मेरे प्रतिशोध से’
पड़ गई इसकी भनक थी ठाकुरों के कान में
वे इकट्ठे हो गए सरपंच के दालान में
दृष्टि जिसकी है जमी भाले की लंबी नोक पर
देखिए सुखराज सिंह बोले हैं खैनी ठोंक कर
‘क्या कहें सरपंच भाई! क्या ज़माना आ गया
कल तलक जो पाँव के नीचे था रुतबा पा गया
कहती है सरकार कि आपस में मिलजुल कर रहो
सुअर के बच्चों को अब कोरी नहीं हरिजन कहो
देखिए ना यह जो कृष्ना है चमारों के यहाँ
पड़ गया है सीप का मोती गँवारों के यहाँ
जैसे बरसाती नदी अल्हड़ नशे में चूर है
न पुट्ठे पे हाथ रखने देती है, मगरूर है
भेजता भी है नहीं ससुराल इसको हरखुआ
फिर कोई बाँहों में इसको भींच ले तो क्या हुआ
आज सरजू पार अपने श्याम से टकरा गई
जाने-अनजाने वो लज्जत ज़िंदगी की पा गई
वो तो मंगल देखता था बात आगे बढ़ गई
वरना वह मरदूद इन बातों को कहने से रही
जानते हैं आप मंगल एक ही मक्कार है
हरखू उसकी शह पे थाने जाने को तैयार है
कल सुबह गरदन अगर नपती है बेटे-बाप की
गाँव की गलियों में क्या इज्जत रहेगी आपकी’
बात का लहजा था ऐसा ताव सबको आ गया
हाथ मूँछों पर गए माहौल भी सन्ना गया
क्षणिक आवेश जिसमें हर युवा तैमूर था
हाँ, मगर होनी को तो कुछ और ही मंज़ूर था
रात जो आया न अब तूफ़ान वह पुरज़ोर था
भोर होते ही वहाँ का दृश्य बिलकुल और था
सिर पे टोपी बेंत की लाठी सँभाले हाथ में
एक दर्जन थे सिपाही ठाकुरों के साथ में
घेर कर बस्ती कहा हलके के थानेदार ने –
‘जिसका मंगल नाम हो वह व्यक्ति आए सामने’
निकला मंगल झोपड़ी का पल्ला थोड़ा खोल कर
इक सिपाही ने तभी लाठी चलाई दौड़ कर
गिर पड़ा मंगल तो माथा बूट से टकरा गया
सुन पड़ा फिर, ‘माल वो चोरी का तूने क्या किया?’
‘कैसी चोरी माल कैसा?’ उसने जैसे ही कहा
एक लाठी फिर पड़ी बस, होश फिर जाता रहा
होश खो कर वह पड़ा था झोपड़ी के द्वार पर
ठाकुरों से फिर दरोगा ने कहा ललकार कर –
“मेरा मुँह क्या देखते हो! इसके मुँह में थूक दो
आग लाओ और इसकी झोपड़ी भी फूँक दो”
और फिर प्रतिशोध की आँधी वहाँ चलने लगी
बेसहारा निर्बलों की झोपड़ी जलने लगी
दुधमुँहा बच्चा व बुड्ढा जो वहाँ खेड़े में था
वह अभागा दीन हिंसक भीड़ के घेरे में था
घर को जलते देख कर वे होश को खोने लगे
कुछ तो मन ही मन मगर कुछ ज़ोर से रोने लगे
‘कह दो इन कुत्तों के पिल्लों से कि इतराएँ नहीं
हुक्म जब तक मैं न दूँ कोई कहीं जाए नहीं’
यह दरोगा जी थे मुँह से शब्द झरते फूल-से
आ रहे थे ठेलते लोगों को अपने रूल से
फिर दहाड़े, ‘इनको डंडों से सुधारा जाएगा
ठाकुरों से जो भी टकराया वो मारा जाएगा’
इक सिपाही ने कहा, ‘साइकिल किधर को मोड़ दें
होश में आया नहीं मंगल कहो तो छोड़ दें’
बोला थानेदार, ‘मुर्गे की तरह मत बाँग दो
होश में आया नहीं तो लाठियों पर टाँग लो
ये समझते हैं कि ठाकुर से उलझना खेल है
ऐसे पाजी का ठिकाना घर नहीं है जेल है’
पूछते रहते हैं मुझसे लोग अकसर यह सवाल
‘कैसा है कहिए न सरजू पार की कृष्ना का हाल’
उनकी उत्सुकता को शहरी नग्नता के ज्वार को
सड़ रहे जनतंत्र के मक्कार पैरोकार को
धर्म, संस्कृति और नैतिकता के ठेकेदार को
प्रांत के मंत्रीगणों को केंद्र की सरकार को
मैं निमंत्रण दे रहा हूँ आएँ मेरे गाँव में
तट पे नदियों के घनी अमराइयों की छाँव में
गाँव जिसमें आज पांचाली उघाड़ी जा रही
या अहिंसा की जहाँ पर नथ उतारी जा रही
हैं तरसते कितने ही मंगल लँगोटी के लिए
बेचती हैं जिस्म कितनी कृष्ना रोटी के लिए!

Advertisements

One comment on “मैं चमारों की गली तक ले चलूँगा आपको..

  1. Anonymous says:

    This is indeed an eye opener..

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s