The story of Azaan..

One day, Abdullah Ibn Zayed, a citizen of Yathrib (Madina), came to meet Mohammad Saheb. Abdullah told him that when he was half-awake or half asleep, a man came in his dream and told him that a human voice should be used to invite Muslims to prayer. Apart from this, that person also taught Abdullah how to say the Azaan. Because Mohammed was not convinced of the Christian way of chiming a bell to call for prayer, he liked the idea and added Azaan to Islam. The Azaan caller was called Muazzin and Bilal Ibn Raha was first Muazzin.

For the first time, the use of loudspeakers for Azaan began around 1930. In 2015, the Bombay High Court had declared the use of loudspeakers for Azaan or any other religious ritual as illegal. But the Mullahs and the Pundits together suppressed this voice. Now Christian preachers are also using the loudspeaker for the fear that they should not be left behind.
The one who makes more noise gets more followers after all.
However, personally, my morning starts at five o’clock with the Azaan at a nearby mosque and I have no particularobjection. It has almost become a habit. A good one I must say..
एक दिन, यदरीब (मदीना) के नागरिक अब्दुल्ला इब्न ज़ायद, मोहम्मद साहब से मिलने आए। अब्दुल्लाह ने उन्हें बताया कि जब वह आधे जाग रहे थे या आधे सो रहै थे, तो एक आदमी उनके सपने में आया और उनसे कहा कि मुसलमानों को प्रार्थना करने के लिए बुलाने के लिए इंसान की आवाज का इस्तेमाल किया जाना चाहिए। इसके अलावा, उस व्यक्ति ने अब्दुल्लाह को अज़ान कहने के तरीके को भी सिखाया। क्योंकि मोहम्मद घंटा बजा कर प्रार्थना के लिए बुलाने के ईसाई तरीके के कायल नहीं थे, उन्हें ये बात अच्छी लगी और उन्होंने अज़ान को इस्लाम में शामिल कर लिया । अज़ान पढ़ने वाले को मुअज़्ज़िन कहा गया और बिलाल इब्न राहा, पहले मुअज़्ज़िन हुए ।
अज़ान के लिए लाउडस्पीकर का इस्तेमाल पहली बार 1930 के आस पास शुरू हुआ । 2015 में मुम्बई हाई कोर्ट ने अज़ान या अन्य किसी भी धार्मिक अनुष्ठान के लिए लाउडस्पीकर के इस्तेमाल को गैरकानूनी करार दिया था । पर मुल्लाओं और पंडितों ने मिलकर इस आवाज़ को दबा दिया। अब तो ईसाई प्रचारक भी लाउडस्पीकर का इस्तेमाल धड़ल्ले से कर रहे हैं इस गरज़ से कि कहीं वो पीछे न रह जाएं।
बहरहाल, जाती तौर पर मेरी सुबह पांच बजे की नमाज़ से शुरू होती है और मुझे इससे कोई ख़ास ऐतराज़ नहीं है, बल्कि एक आदत सी पड़ गयी है..

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s