सातों दिन भगवान के..

– बड़ा अच्छा मौसम है यार। शराब पीने चलें? ऊपर बैठेंगे रूफटॉप पर,एक कबाब platter मंगा लेंगे।

– नहीं भाई आज नहीं । नवरात्र चल रहे हैं ना।

– अमां तुम तो ऐसे कह रहे हो जैसे…खैर छोड़ो

– तुम समझते नहीं हो । जैसे ईसाईयों में लेंट होता है, मोहमडन लोगों रमज़ान वैसे हमारे यहां पित्र पक्ष और नवरात्रि

– कोई कॉम्पेटिसन चल रहा है क्या उनके यहां है तो हमारे यहां भी होना चाहिए

– मजाक ना करो सीरियस बात है। कुछ दिन ईश्वर नें पुन्य का काम करने के लिए बनाये हैं।

– और बाकी दिन क्या पाप करने के लिए बनाये हैं?

– तुम ऐसी सब बात करते हो तुमको पाप पड़ेगा

– अच्छा बताओ ऊंच नीच खेलोगे?

– मतलब?

– कुछ नहीं पूछ रहे थे कब खुलेगा कर्फ्यू…

– बस तीन चार दिन और फिर पियेंगे कुत्तों की तरह एकदम भसड़ के!!

– निहायत कमीने आदमी हो यार। मतलब भगवान को भी मूर्ख बना रहे हो । जियो रजा !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s