कई सवाल हैं

याद हैं अब भी अपने ख्वाब तुम्हे

मुझसे मिलकर उदास भी हो क्या ?

बस मुझे यूँ ही एक ख्याल आया

सोचती हो तो सोचती हो क्या ?

अब मेरी कोई जिंदगी ही नहीं

अब भी तुम मेरी जिंदगी हो क्या ?

मेरे सब तंज बेअसर ही रहे

तुम बहोत दूर जा चुकी हो क्या ?

क्या कहा इश्क़ जावेदनी* है

आखिरी बार मिल रही हो क्या ?

*always and forever

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s