Don’t save the planet, save yourself..

We’re so self-important. So arrogant. Everybody’s going to save something now. Save the trees, save the bees, save the whales, save the snails. And the supreme arrogance? Save the planet! Are these people kidding? Save the planet?

We don’t even know how to take care of ourselves; we haven’t learned how to care for one another. We’re gonna save the fuckin’ planet? . . . And, by the way, there’s nothing wrong with the planet in the first place. The planet is fine. The people are fucked! Compared with the people, the planet is doin’ great. It’s been here over four billion years . . . The planet isn’t goin’ anywhere, folks.

We are! We’re goin’ away. Pack your shit, we’re goin’ away. And we won’t leave much of a trace. Thank God for that. Nothing left. Maybe a little Styrofoam. The planet will be here, and we’ll be gone. Another failed mutation; another closed-end biological mistake.

~ George Carlin

Rain

Look at the rain long enough, with no thoughts in your head, and you gradually feel your body falling loose, shaking free of the world of reality. Rain has the power to hypnotize.

~ Murakami

Begin..

Begin doing what you want to do now. We are not living in eternity. We have only this moment, sparkling like a star in our hand–and melting like a snowflake!
~Francis Bacon~

Pilgrimage?

कोई पच्चीस बरस पहले पंडित राजन साजन मिश्र का एक अल्बम आया था तीर्थ सीरीज में – काशी। शिव भक्त होने के कारण ये अल्बम मुझे अत्यंत प्रिय रहा और अब भी कभी कभी कैसेट रिकॉर्डर में सुन लेता हूँ। इस एल्बम में एक कजरी है :
सावन का महिनवा भइल बाटे शोर
भर भर कांवरिया जाले बाबा तोहरी ओर
करीला तोहके प्रणाम जग में तोर बड़े नाम
हम सब मिल के अइबे बाबा तोहरे धाम ..
दरअसल शिव लिंग पर जल चढ़ाने की प्रथा रही है और शिव भक्त सावन में गंगा जी का पवित्र जल लाकर आने गांव गढी में शिव जी के मंदिर पर चढाते हैं। इसी भजन में एक छंद आता है :
सन सन चले बाबा सीतल पुरवैया
जै जै भोले बाबा तोरी जै जै गौरी मैया
भक्ति में मगन भइल मनवा देखो मोर
कितनी सुंदर भावना कितना भोला चरित्र कितने मीठे बोल ! अब DJ बजता है :
कुंडी ना खड़काओ भोले, सीधे अंदर आओ भोले
और कांवरिया दारू पीकर हुड़दंग करते हैं, मार पीट करते हैं। आज तो रेप की भी खबर आई है। और उस पर भी हिन्दू होने के नाम पर लाखों पढ़े लिखे लोग इस जहालत इस गुंडई का समर्थन कर रहे हैं। बहुत पीड़ा होती है – कहाँ जा रहा है हमारा समाज ? क्या इसका कोई अंत है ? अभी और क्या क्या देखने को मिलेगा भजपा की फूहड़ नौटंकी के नाम पर ?