Freedom

Do as you will, but first be such as are able to will ~ Jim Morrison

Advertisements

प्रबुद्ध

हम सच को सच नहीं कहते

न ही झूंठ को झूंठ कहते हैं

हम सही को नहीं कहते कि सही है

और न कहते हैं गलत को गलत

बस देखते रहते हैं खामोश, चुपचाप

दुनिया को अपने सामने से गुज़रते

कभी अखबार की सुर्खियों में

कभी टेलीविज़न के स्क्रीन पर

और कभी फ़ेसबुक की वाल पर

हम कोई स्टैंड नहीं लेते

क्योंकि हम तो खड़े ही नहीं हैं कहीं

किसी के भी साथ

हम तो बस खिसक जाते हैं

जहाँ सबसे कम खतरा हो

और हम जहाँ पहचाने ना जाएं

ऐसा नहीं कि हमारे एहसास मर गए हैं

पाश की मुर्दा शांति की तरह

हम सजग हैं सतत प्रयत्नशील हैं

अपने स्वार्थ की सिद्धि के लिए

हम बेवजह कुछ नहीं करते

हिलते भी नहीं जब तक ज़रूरी न हो

हम मुस्कुराते भी हैं तो उसके पीछे

एक मकसद होता है

हम खूब जानते हैं किसको देख कर

कब कितना मुस्कराना है

आखिर हर बात का एक मतलब होता है

होना ही चाहिए

हम बेकार की बकवास नहीं करते

हम प्रबुद्ध हैं

हमें कोई फर्क नहीं पड़ता

घर है, टीवी है, फ़ेसबुक है,कार है,अखबार है,

कट जाएगी उम्र बस यूं ही शांति से

बस यही हमारे जीवन का सार है…

~ आहंग

Find Your Zen at Work..

A Zen Master’s advice for finding joy at work although I always ask Zen Master’s – have you ever worked in corporate 😊

1. Start your day with 10 minutes of sitting in meditation.
2. Take the time to sit down and enjoy eating breakfast at home.
3. Remind yourself every day of your gratitude for being alive and having 24 brand-new hours to live.
4. Try not to divide your time into “my time” and “work.” All time can be your own time if you stay in the present moment and keep in touch with what’s happening in your body and mind. There’s no reason why your time at work should be any less pleasant than your time anywhere else.
5. Resist the urge to make calls on your cell phone while on your way to and from work, or on your way to appointments. Allow yourself this time to just be with yourself, with nature and with the world around you.
6. Arrange a breathing area at work where you can go to calm down, stop and have a rest. Take regular breathing breaks to come back to your body and to bring your thoughts back to the present.
7. At lunchtime, eat only your food and not your fears or worries. Don’t eat lunch at your desk. Change environments. Go for a walk.
8. Make a ritual out of drinking your tea. Stop work and look deeply into your tea to see everything that went into making it: the clouds and the rain, the tea plantations and the workers harvesting the tea.
9. Before going to a meeting, visualize someone very peaceful, mindful and skillful being with you. Take refuge in this person to help stay calm and peaceful.
10. If you feel anger or irritation, refrain from saying or doing anything straight away. Come back to your breathing and follow your in- and out-breath until you’ve calmed down.
11. Practice looking at your boss, your superiors, your colleagues or your subordinates as your allies and not as your enemies. Recognize that working collaboratively brings more satisfaction and joy than working alone. Know that the success and happiness of everyone is your own success.
12. Express your gratitude and appreciation to your colleagues regularly for their positive qualities. This will transform the whole work environment, making it much more harmonious and pleasant for everyone.
13. Try to relax and restore yourself before going home so you don’t bring accumulated negative energy or frustration home with you.
14. Take some time to relax and come back to yourself when you get home before starting on household chores. Recognize that multitasking means you’re never fully present for any one thing. Do one thing at a time and give it your full attention.
15. At the end of the day, keep a journal of all the good things that happened in your day. Water your seeds of joy and gratitude regularly so they can grow.

– Thich Nhat Hanh
“15 Practical Ways To Find Your Zen At Work”

Papa ji and Organic India

While Baba’s are the focus of today’s public debate I want to bring this little known story from my city Lucknow. There was once a young man called Yoav Lev who had a deep spiritual yearning and his quest brought him to Lucknow to meet his master Shri HWL Poonja or Papaji as he was lovingly called by his disciples. Poonja ji was born in Pakistani side of Punjab but he later settled in Lucknow after serving in the army. Poonja ji had a vision of Krishna when he was just 8 years old and his lifelong quest took him to his master Shri Ramana Maharishi. When Poonja ji asked him if he could show him God Ramana told him that he must focus on the I or the seer within himself and he will realize what he wants. After years of practice, one day Ramana appeared in Poonja ji ‘s dream and gave him the vision of Krishna. Poonja ji became the disciple of Ramana Maharishi and after his retirement in 1966 settled in Lucknow .

During the late 80’s and early 90’s, He became very popular among the western seekers and the entire area of Indiranagar where he used to live became infested by foreigners. For the locals it was good business to rent out their extra rooms to his peaceful chelas who were harmless except an occasional drag of chillum. I still remember one friend who had a couple of them as his tenants. He ostentatiously tried to learn guitar from one of them and accompanied me in one of the solo performances. It was such a monumental flop that it’s still a legend among those who studied in Lucknow University during the early 90’s. Anyways, sorry for digressing let me come back to the main topic. Now the simple folk of Lucknow could never figure out what the hell these hippies were doing in their city. But they were certainly doing something at least one of them was. One day Poonja ji told Yoav Lev who was now called Bharat Mitra that he must start a limited liability company. The vision for this company would be to link spirituality with business and connect environment with sustainable livelihoods. Bharat Mitra recalls that at that time he did not know what a LLP company was! But few months later, by the grace of his Guru he was sitting as the CEO in his new office of a company called as Organic India.

25 years later today Organic India has become a household name with its signature Tulsi tea & other herbal supplements. A couple of years back Fab India picked up a 40% stake in the company to support it’s growth plans. Organic India today is a big company that sells it’s products not only in India but in 40 other countries. The total area under cultivation would run into thousands of acres.They do all this while still living upto the original resolve of supporting marginalised communities of farmers and giving back more to the planet than they take from it.

Fun trivia – I had approached Organic India for employment as a fresher back in 1995 but could not get through as they had already hired two of my batch mates. Later in 2002 I once again discussed with them for dealership for south India but even that didn’t move forward. The only link I have now is their Tulsi tea which I drink everyday 😊

In this video you can see another famous disciple of Papaji – Mooji singing Shiv Shiv Shambho for his master.

On Writing

All writers are vain, selfish, and lazy, and at the very bottom of their motives there lies a mystery. Writing a book is a horrible, exhausting struggle, like a long bout of some painful illness. One would never undertake such a thing if one were not driven on by some demon whom one can neither resist nor understand.

–George Orwell, “Why I Write,” 1946

Conversation

तुम मुख़ातिब भी हो करीब भी हो,

तुमको देखूँ कि बात करूं तुमसे!

Now that I have your attention,

Should I converse or just keep looking!

धरती का बोझ

आज इस पृथ्वी पर 7.5 अरब लोग हैं । ठीक एक सौ साल पहले ये संख्या शायद इसकी एक तिहाई यानी ढाई से तीन अरब रही होगी। अब धरती और उसकी धारण क्षमता तो वही है पर बोझ तीन गुना हो गया। यही वजह है कि आज पर्यावरण पर इतनी चर्चा होने लगी है। समस्त चेष्टा इस ओर केंद्रित है कि इस विनाश को कैसे रोका जाए या रोका अगर ना भी जा सके तो कम से कम इसकी गति धीमी कर दी जाए। सारे उपाय भी इसी दिशा में किये जा रहे हैं कि ज़्यादा लोग जो और भी ज़्यादा हो जाएंगे, वो कैसे धरती के साधनों का इस्तेमाल किफायत से करें, कम करें या फिर अगर हो सके तो बन्द कर दें।

पर आज राम रहीम के समर्थकों और कई साल से जिहादियों की हरकतों को देख कर एक विचार आया कि क्या जीने का अधिकार वाकई एक मौलिक अधिकार है? और अगर है तो किसने इसे निर्धारित किया? प्रकृति नें तो नहीं क्योंकि वहां तो ये सिद्धान्त लागू नहीं होता। और अगर गहराई से हम मानव जीवन के उद्देश्य के बारे में सोचें तो वो तो मोक्ष या निर्वाण ही हो सकता है। पर उसके लिए एकांत चाहिए, शांति चाहिए,प्रचुर साधन चाहिए जिससे मानव किसी भी चिंता अथवा भय से मुक्त होकर मनन और चिंतन कर सके। एक विकसित अवस्था की न सिर्फ कल्पना कर सके बल्कि उसे पाने के लिए अबाधित रूप से प्रयास कर सके। जिन गुनी ज्ञानी जनों ने उपनिषद और वेद सभ्यता को दिए वो निश्चित ही एक अलग तरह के समाज की उपज थे।

परन्तु इसमें राम रहीम के भक्त, जिहादी, जाहिल, गंवार, पशु मानसिकता वाले लोग रुकावट हैं , बहुत बड़ी रुकावट हैं क्योंकि ये सारे समाज की आध्यात्मिक दशा और राजनैतिक दिशा दोनों बदल देते हैं। क्योंकि भीड़ का अपना एक बल होता है जिसे आज कल लोकतंत्र भी कहा जाता है वो बल ये भीड़ धूर्तों, बेईमानों और पाखण्डियों के हाथ में दे देती है। राजनेता इसी बल का उपयोग हमारे साधन छीन कर इन बहुसंख्यक कीटों को देकर इनके वोट खरीद लेते हैं और सत्ता पर काबिज़ हो जाते हैं। ये एक तरह का communsalism का संबंध है जिसमें धूर्त मूर्खों और अज्ञानियों के बल पर सबकी ऐसी तैसी किये रहते हैं। इस व्यवस्था को जाना होगा। जो अपने विषय में कुछ तय नहीं कर सकता हम क्यों उसे हमारा जीवन कैसा हो ये तय करने का अधिकार दें। अगर देंगे तो यही होता रहेगा, बल्कि और बढ़ेगा।

जर्मनी के विद्वान विचारक फ्रेडरिक नीतज़े नें उबर मैन की परिकल्पना की थी – एक ऐसा सुपरमैन जो शारीरिक और मानसिक दृष्टि से पूर्ण हो । जो निर्वाण जैसी अवस्था को अगर पा न चुका हो कम से कम उसकी ओर बहुत तेजी से बढ़ रहा हो। उसके इसी दर्शन को आधार बना कर हिटलर ने एक सुपीरियर रेस, जिसे उसने आर्यन रेस का उत्तराधिकारी कहा, की नींव रखी थी। उसका मानना था कि जीने का अधिकार कोई मौलिक अधिकार नहीं है क्योंकि किसी के जीने या मरने से प्रकृति को कोई फर्क नहीं पड़ता । प्रकृति तो खुद ही सिर्फ उन्हें जीने का अधिकार देती है जो उसके काबिल हों।

मुझे लगता है कि आज के काल खंड में उबर मैन और भी प्रासंगिक है । साधन कम हैं और उनका दोहन करने वालों की संख्या लगातार बढ़ रही है। क्या ये उचित नहीं होगा कि कुछ लोगों को कम कर दिया जाए। चूंकि वो कभी भी एक विकसित अवस्था को प्राप्त नहीं कर सकते वो सिर्फ साधनों को बांट कर खत्म कर रहे हैं। हिटलर एक गुंडा था और मुझे लगता है कि नीतज़े की गूढ़ बातों को वो समझ भी नहीं पाया होगा। मेरा मानना है कि सबको बराबर अधिकार मिलना चाहिए पर कहीं न कहीं ये भी तय होना चाहिए कि ये व्यक्ति उन सीमित संसाधनों के लायक भी है या नहीं !अगर नहीं है तो शायद वैसा ही कोई उपाय करना होगा जैसा हिटलर नें किया था।

कुछ रोज़ पहले मेरे घर में चींटों का आक्रमण हुआ। पहले तो ये इक्का दुक्का इधर उधर दिखते थे पर जब हमने ‘जियो और जीने दो’ के फलसफे को अपनाते हुए इन्हें नहीं मारा तो देखते ही देखते ये सब जगह हो गए। जब एक रोज़ रात में अचानक मेरी नींद खुली तो मैनें पाया कि चींटे मेरे ऊपर ही रेंग रहे हैं। अगले ही दिन हमने पेस्ट कंट्रोल वाले को बुलाया और उसने इनकी कॉलोनी को ढूंढने के बाद बड़ी निर्ममता के साथ मेरे सामने चींटों की हत्या कर दी। उसने जाते जाते ये भी कहा कि मेरे जाने के बाद अगर एक भी चींटा कहीं भी दिख जाए तो फौरन मार दें अन्यथा ये फिर से चारों तरफ हो जाएंगे। अब जहाँ भी कोई चींटा दिखता है में तुरंत उसे पैरों तले कुचल देता हूँ । जियो और जीने दो का सिद्धांत गया तेल लेने अब मैं चींटों की मौत को यूं जस्टिफाई करता हूँ – ये साले धरती के बोझ वैसे भी ज़्यादा जी कर क्या उखाड़ लेते? नया जन्म किसी दूसरी योनि में होगा तो एक नई संभावना तो उपजेगी – एक तरह से मैं उपकार ही कर रहा हूँ ….