शाश्वत के संदर्भ में…

एक रोज़

मुझे साफ साफ याद है

शाम थी, दूर का सफर था

और मै चाय के लिये

उतर गया था एक गांव के पास

एक बूढा किसान

पास के खेत में बैठा

ना जाने शितिज के पार

क्या देख रहा  था

उसके चेहरे पर कोई

भाव नहीं था और ना थे

उसके मन मे दुख सुख

लोभ,मोह,चिंता …….

कहने को तो उसके पास

कोई काम नहीं था

पर  वो इस तरह

अनंत को ताड रहा था

जैसे ये भी कोई काम हो

मेरी चाय खत्म हो गयी

और मैं  चलने लगा

तो हमारे नज़रें मिलीं

और वो मुस्कुरा दिया

जैसे कह रहा हो कि

वो वक़्त को बिता रहा था

जैसे वो चाहता था

और वक़्त मुझ पर बीत रहा था

जैसे वक़्त की मर्ज़ी थी

कर्म मे बंधन है

क्योंकि अच्छा हो या बुरा

कर्म अहं को आग देता है

वक़्त को जीत लिया था

उस बूढे सम्राट ने

जो अब घर जा रहा था कि

कल फिर नये उत्साह, नयी उमंग से

दिन भर  कुछ भी ना करे

बस घूरता  रहे  वक्त को

अनंत काल तक….

‍‍~ आहंग

Advertisements

यात्रा…

जो जीता हूँ
वो सुनता हूँ
जो सुनता हूँ
वो गुनता हूँ
जो गुनता हूँ
वो बुनता हूँ
जो बुनता हूँ
वो लिखता हूँ
 जो लिखता हूँ
  वो जीता हूँ…..

~ आहंग

My best Posts in 2 years…

Unexplained……

You seem know all the answers, I am not sure of the  question

You want to know the truth, I am OK with the lies

You want to get to the destination, I revel in the journey

You want to see the light , I explore the darkness as well

You want to be in control , I have lost my sense of bearing

You want to do what’s right, I don’t know what went wrong

You want to be loved by friends, I like my enemies too

You want to be the favorite of Gods, I am devil’s confidant

You want me to be there always, I may or may not be

You want to believe in yourself, I can’t trust my own mind

To you I am arbitrary, to me I’m just unexplained

~aahang

My blog is 1 year old

I celebrated my blogs anniversary on the 30th November 09 but kept awfully busy the next 15-20 days so could not get time to even celebrate this glorious moment.

Through the year I have got a lot of encouragement not only from fellow bloggers but also from the public at large – folks who do not know me and still care to read my writing and comment on it from across the world.Cheers !

Actually the people I know including some who claim to  be quite close have been a big disappointment but it doesn’t matter.

Few numbers just for the heck of it  :

1. Total number of hits – 33349

2.Visitors from across the globe as per clustermaps

3.Google page rank of 2 ( not too impressive but not too bad either for a personal blog)

4.Alexa rating of 3.5

5. 47th rank among all blogs posted by Indiblogger a forum for Indian blogs

6.I have a total of 210 posts in 6 categories and 416 comments

7.Last but not the least the value of my blog is $ 1175.00 , so I can sell it for Rs 50000 to anyone of you ( if you want that is)

Well what do I say ? its a great feeling – something I created ,something my very own ,something very personal has taken a form that not only acts as a sounding board but is also a true and original friend.

Today I promise my blog that I will come back to it at least once a week and post something.I have stopped looking at the stats anyways so it is easier now.

बाज़ार

लगा है बज़ार          

हो रहा है कारोबार

बिक रहे हैं

झूठ और सच

भूख  और  ऐय्याशी

दिल और जान

जिस्म , ईमान

वो देखो उस ठेले पर क्या है

शायद कोई प्यार बेच रहा है

या फिर वफादारी

शराफत से बोलता है

जितना है उतना तोलता है

लगता है ईमनदार है बेचारा

कोई अठ्ठन्नी भी ना देगा

और दी तो ये जहर खा लेगा

बैठा रहेगा दिन भर खाली

और खायेगा पुलिस से गाली

कैसा फकीर जैसा है

ना पेट में रोटी है ना जेब में पैसा है

लोग पास से गुज़रते है

और तय नहीं कर पाते शायद

भीख दें या दुआ लें

By aahang

 

मेरे पेड मेरे दोस्त

मेरे पेड मेरे दोस्त

हर रोज़ सुबह                                                       My green tree

जब मैं घर से बाहर जाता हूं

अपनी हरी पत्तियों की मुस्कुराहट लिये

तुम मुझे छोड्ने के लिये खडे रह्ते हो

सच पूछो  तो बस तुम ही एक साथी हो मेरे

क्योंकि तुम मुझे समझते ही नहीं हो

मेरे साथ बांटते हो मेरे सुख और दुख

जब मैं उदास और निराश होकर

अपनी कार का दरवाजा बे मन से खोलता हूं

तो लगता है कि तुम भी खडे हुए हो चुपचाप

और जब मैं जोश से गुंगुनाते हुए

कार के शीशे में अपने आप को देखता हूं

तो तुम सिर हिला कर कह देते हो

हां भई बहुत अच्छे लग रहे हो

मज़ा तो तब आता है जब देर रात मैं

नशे में चूर कार में चाभी नहीं लगा पाता

और तुम मुस्कुराकर मुझे चिढाते हो

लेकिन सच केहना मेरे यार

कल रात जब मेरे पैर लड्खडाये थे

क्या वो तुम थे जिसने मुझे

गिरने नहीं दिया था …..

My tree My freind

Every Morning when I go out

You are there to see me off

With your smiling green leaves

Honestly you are my only true freind

you not only understand me well

but you are always there for me

To share my Joys and my Sorrows

When I open the door of my car

with an indifferent mind

You stand there in silence

When in a cheerful mood

I hum a song and take look at myself

in the rear view mirror

you smile and tell me

It’s Ok you are looking just great !

In the middle of the night, Inebriated

when I struggle with my car keys

You scoff at me and I laugh with you

Don’t lie to me my dear friend

Tell me the truth

yesterday at night when I stumbled

and was about to fall

Was it not you who reached out

and did not let me hurt myself.